Meerut : आपके 10 हजार बकाया हैं तो बिजली कनेक्शन कटेगा, यहां करोड़ों बाकी हैं तो इनसे वसूली क्यों नहीं?

0
14


रिपोर्ट – विशाल भटनागर

मेरठ. पश्चिमी उत्तर प्रदेश का बिजली विभाग इन दिनों जमकर बकाये की वसूली कर रहा है, लेकिन सामान्य उपभोक्ताओं और सरकारी विभागों के लिए रवैया अलग अपना रहा है. पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के कर्मचारी उन घरों के बिजली कनेक्शन काट रहे हैं, जिन पर विभाग का 10,000 या उससे ज़्यादा बकाया हो गया है जबकि सरकारी विभागों के लिए कोई सख्ती नहीं की जा रही है. सख्ती तो दूर विभाग यहां से करोड़ों की बड़ी वसूली के लिए कोई विशेष अभियान छेड़ता हुआ नज़र भी नहीं आ रहा है.

दरअसल आम उपभोक्ताओं पर पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के करीब 30 करोड़ रुपये की राशि बकाया हो गई है, जिसे वसूलने के लिए विभाग ने विशेष अभियान छेड़ा है. जिन घरों में बिजली कनेक्शन काटे जा रहे हैं, वो लोग बिजली विभाग के चक्कर लगाकर वापस बिजली बहाल करवाने के लिए परेशान हो रहे हैं. ऐसे उपभोक्तओं का सीधा आरोप है कि विभाग बड़ी बकायादारों को छोड़कर मामूली लोगों को बगैर टाइम दिए इस तरह की कार्रवाई कर रहा है. अब आंकड़े भी देखिए क्या कहते हैं.

किस विभाग पर कितना है बकाया?

1. गृह विभाग पुलिस – पांच करोड़ 90 लाख
2. चिकित्सा शिक्षा विभाग – दो करोड़ 68 लाख
3. कृषि पंचायत राज – एक करोड़ दो लाख
4. गृह विभाग कारागार – 46.67 लाख
5. शिक्षा विभाग – 84.20 लाख
6. कृषि दुग्धशाला विकास – 31.19 लाख
7. आबकारी विभाग – 12 लाख
8. सिंचाई अधिष्ठान विभाग – 18.25 लाख

ये आंकड़े बताते हुए अधीक्षण अभियंता राजेंद्र बहादुर यादव ने बताया कि 34 सरकारी विभागों ने समय से बिजली के बिलों का भुगतान नहीं किया है. यादव ने यह भी बताया कि मार्च 2022 के बाद से भुगतान की व्यवस्था बदलने के बाद से ही लगातार विभागों को लिखा जा रहा है, लेकिन अब तक बकाया की समस्या बनी हुई है. हालांकि सामान्य उपभोक्तओं से की जा रही वसूली पर वह यही बोले कि सामान्य कंज़्यूमरों से विभाग को 30 करोड़ वसूलने हैं.

Tags: Electricity Department, Meerut news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here