संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार संस्था के विशेषज्ञों ने-यूक्रेन में किन युद्ध अपराधों के सबूतों की बात कहीं? जानें पूरा मामला

0
21


हाइलाइट्स

विशेषज्ञों ने अपनी पड़ताल में अभी तक चार क्षेत्रों- कीव, चेर्निहीव, खारकीव और सुमी पर ध्यान केंद्रित किया है
हत्याओं के और भी कई मामलों के प्रामाणिक आरोपों की जानकारी मिली है और उन्हें दर्ज किया जा रहा है
आयोग इस समय 16 शहरों और बस्तियों में इस तरह की हत्याओं के मामलों की जांच कर रहा है

जिनेवा: संयुक्त राष्ट्र(united nations)  की शीर्ष मानवाधिकार संस्था (human rights organization) द्वारा यूक्रेन में मानवाधिकारों के उल्लंघन का पता लगाने के लिए नियुक्त विशेषज्ञों के दल ने शुक्रवार को कहा कि उसकी शुरुआती पड़ताल में देश में युद्ध अपराध होने के सबूत मिले हैं. संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद द्वारा नियुक्त जांच आयोग के विशेषज्ञों ने अपनी पड़ताल में अभी तक चार क्षेत्रों- कीव, चेर्निहीव, खारकीव और सुमी पर ध्यान केंद्रित किया है.

रूस के यूक्रेन पर हमले शुरू करने के करीब सात महीने बाद विशेषज्ञों ने अपने अध्ययन में पूर्व में हिरासत में लिये गये लोगों से बातचीत का हवाला दिया है जिनके साथ रूस के निरुद्ध केंद्रों में मारपीट हुई, बिजली के झटके दिये गये और जबरन निर्वस्त्र किया गया.

Mexico Earthquake: भूकंप से दहली मेक्सिको स‍िटी, ‘रेगिस्तान सुनामी’ डेथ वैली से टकराई, रिक्टर स्केल पर 7.5 मापी गई तीव्रता

आयोग के अध्यक्ष एरिक मूज ने कहा, ‘‘हमने जिन क्षेत्रों का दौरा किया वहां बड़ी संख्या में लोगों को मारे जाने का पता चला. आयोग इस समय 16 शहरों और बस्तियों में इस तरह की हत्याओं के मामलों की जांच कर रहा है.’’

मूज ने कहा कि उनके दल को हत्याओं के और भी कई मामलों के प्रामाणिक आरोपों की जानकारी मिली है और उन्हें दर्ज किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि जांचकर्ताओं ने 27 शहरों और बस्तियों तथा कब्रिस्तानों एवं प्रताड़ना केंद्रों का दौरा किया, 150 से अधिक पीड़ितों और गवाहों से बातचीत की और सामाजिक समूहों तथा सरकारी अधिकारियों से मुलाकात की.

मूज ने कहा, ‘‘आयोग द्वारा संकलित सबूतों के आधार पर निष्कर्ष निकाला गया है कि यूक्रेन में युद्ध अपराध हुए हैं.’’ उन्होंने हालांकि यह स्पष्ट नहीं किया कि युद्ध में किस पक्ष ने कथित अपराध किये हैं. मूज ने कहा कि टीम ने यूक्रेनी बलों द्वारा रूस के जवानों के खिलाफ बदसलूकी की दो घटनाओं का भी अध्ययन किया. उन्होंने कहा कि रूस के जवानों द्वारा 4 से 82 साल के लोगों के साथ यौन या लैंगिक अपराध करने का भी पता चला है और इन जवानों की संख्या स्पष्ट नहीं है.

Tags: Russia, Russia ukraine war, Ukraine



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here