चीन में बाढ़ और सूखे के कारण हालात गंभीर, जियांगशी प्रांत में पानी का संकट, ‘रेड अलर्ट’ जारी

0
20


हाइलाइट्स

मध्य चीनी प्रांत जियांगशी में पहली बार पानी की आपूर्ति के लिए ‘रेड अलर्ट’ जारी किया गया है.
पिछले तीन महीनों में इसका जल स्तर 19.43 मीटर से गिरकर 7.1 मीटर हो गया है.
जियांगशी प्रांत में 70 दिनों से अधिक सूखे की स्थिति बनी हुई है.

शंघाई. दुनिया में इस बार हीटवेव और बाढ़ ने एक साथ तबाही मचाई है. चीन उन देशों में है जहां इन दोनों ने एक साथ तबाही मचायी है. खबर है कि मध्य चीनी प्रांत जियांगशी में पहली बार पानी की आपूर्ति के लिए ‘रेड अलर्ट’ जारी किया गया है. इसका कारण लंबे समय तक सूखे से देश की सबसे बड़ी पोयांग झील का सूखना है. प्रांतीय सरकार ने शुक्रवार को कहा कि पोयांग झील जो आमतौर पर यांग्त्जी नदी के लिए एक बाढ़ आउटलेट है. पिछले तीन महीनों में इसका जल स्तर 19.43 मीटर से गिरकर 7.1 मीटर हो गया है. जियांगशी जल निगरानी केंद्र ने इसे लेकर कहा है कि बारिश की कमी को देखते हुए आने वाले दिनों में जलस्तर और भी गिर सकता है.

अलजजीरा की एक रिपोर्ट के अनुसार अगस्त में पूरे चीन में 267 मौसम केंद्रों में रिकॉर्ड तापमान दर्ज किया गया. यांग्त्जी नदी के बेसिन में लंबे समय तक सूखे के कारण जलविद्युत उत्पादन में बाधा उत्पन्न हुई. साथ ही फसल उगाने में भी काफी दिक्कतें आई हैं. हालांकि भारी बारिश ने दक्षिण पश्चिम चीन के अधिकांश हिस्सों में सूखे से राहत दी है, लेकिन मध्य क्षेत्रों में स्थिति उलट है. जियांगशी प्रांत में 70 दिनों से अधिक समय से सूखे की स्थिति बनी हुई है.

स्थानीय जल ब्यूरो ने इस सप्ताह की शुरुआत में कहा कि पड़ोसी अनहुई प्रांत में कुल 10 जलाशय “डेड पूल” स्तर से नीचे गिर गए हैं. जिसका अर्थ है कि वे पानी के सप्लाई के लिए असमर्थ हैं. राज्य के मौसम पूर्वानुमानकर्ताओं ने कहा है कि चीन की सबसे लंबी नदी यांग्त्जी के मध्य और निचले इलाकों में अभी भी सूखे की स्थिति बनी हुई है.

मालूम हो कि पोयांग झील साल 2002 से कभी भी गर्मी में सूखे का शिकार नहीं हुई थी. लेकिन इस बार हीटवेव में इस पर भी सूखे की ऐसी मार पड़ी है कि यह सूख गई. वहीं चीन की करीब 66 नदियां पूरी तरह सूख गई हैं. जबकि सबसे बड़ी नदी यांग्त्जी के कुछ हिस्सों में साल 1865 के बाद सबसे कम जल स्तर दर्ज हुआ है.

Tags: China, Heatwave



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here