कम यूरिन निकलना हो सकता है सेप्सिस के कारण, जानें क्या होती है यह बीमारी

0
21


हाइलाइट्स

सेप्सिस तब होता है जब शरीर में मौजूद इंफेक्शन इम्युन सिस्टम को अत्यधिक सक्रिय कर देता है
गंभीर सेप्सिस की स्थिति में सांस लेने में बहुत दिक्कत होती है

Sepsis: सेप्सिस एक खतरनाक बीमारी है जिसका समय रहते इलाज न किया जाए तो यह जानलेवा भी हो सकता है. शरीर में बहुत जल्दी-जल्दी इंफेक्शन लगना और शरीर से कम यूरिन बाहर निकलना इस बीमारी के शुरुआती लक्षण हैं. आमतौर पर जिस व्यक्ति में इम्युन सिस्टम कमजोर होता है, उन्हें यह बीमारी लगती है. हेल्थलाइन के मुताबिक आमतौर पर सेप्सिस तब विकसित होता है जब शरीर में मौजूद इंफेक्शन इम्युन सिस्टम को अत्यधिक सक्रिय कर देता है. जब किसी के शरीर में इंफेक्शन होता है तो शरीर में इम्युन सिस्टम एक प्रोटीन और अन्य तरह के रसायन रिलीज करता है. ये सब रसायन प्रतिक्रिया कर इंफेक्शन से लड़ते हैं. सेप्सिस तब होता है जब यह प्रतिक्रिया नियंत्रण से बाहर हो जाती है. इस कारण बहुत ज्यादा सूजन हो जाती है.

सेप्सिस के कारण
अधिकांश मामलों में सेप्सिस का कारण बैक्टीरिया है. लेकिन यह कोविड-19, इंफ्लूएंजा और फंगल के कारण भी हो सकता है. सेप्सिस के कारण बुखार, धड़कन का तेज होना और सांस लेने में दिक्कत हो सकती है. सेप्सिस अगर ज्यादा गंभीर हो जाए तो यह सेप्टिक शॉक हो जाता है. इसमें तत्काल इमरजेंसी में भर्ती करनी होती है. इसमें ब्लड प्रेशर बहुत लो हो जाता है और कई अंग काम करने बंद कर देते हैं.

इसे भी पढ़ें-बच्चों में ज्यादा पसीना आना हार्ट संबंधी परेशानियां हो सकती है, ऐसे करें उपचार 

सेप्सिस के लक्षण
इसमें तेज बुखार आ सकता है या तेज ठंड लग सकता है. इसके अलावा भ्रम या भटकाव की स्थिति होने लगती है. सांस लेने में दिक्क्त होती है. हार्ट बीट और ब्लड प्रेशर लो हो जाता है. शरीर में अत्यधिक दर्द करता है और पसीना बहुत आता है. इसमें कोविड, निमोनिया और कैंसर जैसे लक्षण भी दिखते है.

गंभीर सेप्सिस के लक्षण
गंभीर सेप्सिस की स्थिति में सांस लेने में बहुत दिक्कत होती है. स्किन का रंग बदल जाता है. खासकर होंठ, ऊंगली और टखने का रंग. तापमान बहुत गिर जाता है. शरीर से पेशाब बहुत कम निकलता है. हमेशा चक्कर रहता है. बहुत ज्यादा थकान हो जाती है. सेप्सिस से पीड़ित लोग कभी-कभी अचेत होने लगते हैं. इसके अलावा दिल की गति असामान्य होने लगती है.

कैसे करें उपचार
अगर इंफेक्शन बहुत ज्यादा नहीं है तो इसे एंटीबायोटिक दवाओं से ठीक किया जा सकता है. हालांकि इसके लिए डॉक्टर की सलाह जरूरी है. अगर एंटीबायोटिक से ठीक नहीं हो रहा है तो ब्लड प्रेशर और ब्लड शुगर को कंट्रोल करने की दवाई दी जाती है. सेप्सिस से बचने के लिए पौष्टिक तत्वों से युक्त भोजन करना चाहिए. विटामिन सी का सेवन इम्युनिटी को बूस्ट कर सकता है. साइट्रस फल का सेवन करें. गंभीरता की स्थिति में तुरंत अस्पताल जाएं.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here