आपके काम की खबर अगर नवरात्र पर मेहरानगढ़ दुर्ग में मां चामुंडा के दर्शन करने जा रहे हैं तो

0
19


हाइलाइट्स

नवरात्र के दौरान चामुंडा माता मंदिर में दर्शन की व्यवस्था सुबह 7 बजे से शाम 5 बजे तक ही रहेगी.
चारपहिया और तिपहिया वाहनों के लिए नागौरी गेट से मेहरानगढ़ तक वन वे लागू किया गया है.
किसी भी अनहोनी से निबटने की पूरी तैयारी की गई है. मौके पर एसडीआरएफ की टीम भी लगाई गई.

रिपोर्ट: मुकुल परिहार

जोधपुर. 2 वर्ष के कोरोनाकाल के बाद अब एकबार फिर मां चामुंडा का दरबार आमजन के लिए पूरी क्षमता के साथ खुल रहा है. 26 सितंबर से शुरू होने वाली आसोजी नवरात्र को देखते हुए इस बार मेहरानगढ़ दुर्ग में चामुंडा माता मंदिर में दर्शनार्थियों के लिए सुरक्षित व सुविधाजनक दर्शन की व्यवस्थाओं को लेकर प्रशासन ने आवश्यक निर्देश जारी किए हैं.

बता दें कि वर्ष 2008 में यहां बुरी तरह भगदड़ मची थी. इस भगदड़ में 300 से अधिक लोग काल कवलित हो गए थे. इस हादसे के बाद मां चामुंडा के दर्शन के लिए मेहरानगढ़ ट्रस्ट और पुलिस प्रशासन की ओर से कई अहम बदलाव किए गए हैं. दावा किया जा रहा है कि इस बार मंदिर में पहले के मुकाबले बेहतर सुरक्षा और सुविधा होगी.

अगर आप मेहरानगढ़ दुर्ग में मां चामुंडा के दर्शन करने की योजना बना रहे हैं तो बेहतर होगा कि पुलिस प्रशासन द्वारा जारी निर्देशों को जरूर पढ़ लें. इससे आपकी यात्रा भी सहुलियतों वाली हो जाएगी और सुरक्षा के तमाम मानदंडों से आप परिचित भी हो जाएंगे. पुलिस उपायुक्त (पूर्व) डॉ. अमृता दुहन ने मेहरानगढ़ ट्रस्ट व अन्य विभागों के साथ बैठक कर कई आवश्यक निर्देश दिए हैं.

सुबह 7 से शाम 5 बजे तक दर्शन

मेहरानगढ़ ट्रस्ट के वरिष्ठ प्रबंधक शैलेश माथुर ने सुरक्षा अधिकारी कैप्टन लक्ष्मण सिंह शेखावत व प्रबन्धक संस्कृति घर्मांशु बोहरा का कहना है कि किले में नवरात्र के दौरान चामुंडा माता मंदिर में दर्शन की व्यवस्था सुबह 7 बजे से शाम 5 बजे तक ही रहेगी.

आपातकालीन निकास प्लान

पुलिस उपायुक्त का कहना है कि सभी विभागों को मिलकर नवरात्र का यह आयोजन सफलतापूर्ण व शांतिपूर्ण आयोजित करवाना है. सभी व्यवस्थाएं अच्छी तरह हों. सभी को अपनी जिम्मेदारी गंभीरता से पूरी करनी होगी. उन्होंने मेहरानगढ़ मंदिर ट्रस्ट व अन्य संबंधित विभागों की व्यवस्थाओं की जानकारी लेने के साथ ही उचित निर्देश भी दिए हैं. उन्होंने कहा कि पुलिस को जो भी व्यवस्था व जिम्मेदारी इस दौरान सौंपी जाए, उसे पुलिस बेहतर तरीके से निभाए. डीसीपी ने दुर्ग प्रबन्धक से आपातकालीन निकास प्लान भी तैयार रखने को कहा है.

शराब व डीजे पर प्रतिबंध

पुलिस उपायुक्त ने स्पष्ट निर्देश दिया कि दर्शनार्थियों के शराब पीकर या लेकर आने पर प्रतिबंध रहेगा. साथ ही डीजे के साथ जाना भी पूर्णतया प्रतिबंधित होगा. गैस से चलने वाले वाहनों पर भी रोक रहेगी.

एम्बुलेंस व फायर ब्रिगेड

कोरोनाकाल के बाद इस बार नवरात्र में भारी भीड़ की सम्भावना को देखते हुए डीसीपी ने एम्बुलेंस की व्यवस्था करने का निर्देश दिया. उन्होंने मोटर साइकिल एम्बुलेंस की भी जगह-जगह व्यवस्था करने को कहा. ट्रस्ट की ओर से भी डॉक्टर व मेडिकल सुविधा मुहैया कराने का निर्देश दिय. साथ ही फायर ब्रिगेड की व्यवस्था करने को भी उपायुक्त ने कहा है. उन्होंने एसडीआरएफ की तैनाती का भी निर्देश दिया.

नागौरी गेट से मेहरानगढ़ तक वन वे

इस बार नवरात्र के मौके पर मेहरानगढ़ की तरफ आनेवाले वाहनों के लिए पुलिस प्रशासन ने वैकल्पिक मार्ग तय किया है. अतिरिक्त पुलिस आयुक्त यातायात चेनसिंह महेचा ने कहा कि नवरात्र के दौरान नागौरी गेट से मेहरानगढ़ दुर्ग जानेवाले रास्ते पर वन वे व्यवस्था रहेगी. जिसमें तिपहिया व चारपहिया वाहन एक तरफ ही जा सकेंगे. वाहन किले की पार्किंग में पार्क होंगे. ये वाहन नागौरी गेट होकर जाएंगे और वापस चांदपोल विद्याशाला की तरफ उतरेंगे. दुपहिया वाहन दोनों तरफ से आ जा सकेंगे.

यह रहेगी प्रवेश व्यवस्था

किले में जयपोल के बाहर से एक लाइन में प्रवेश की व्यवस्था होगी, जो मंदिर तक रहेगी और डीएफएमडी गेट से ही जयपोल व फतेहपोल से दर्शनार्थियों को प्रवेश दिया जाएगा. पट्ठे पर महिलाएं, बच्चे. वृद्ध और दिव्यांगों के लिए आने-जाने की व्यवस्था रहेगी. पुरुषों के लिए सलीम कोट से होकर बसंत सागर से आनेजाने की व्यवस्था होगी. सभी स्थानों पर बेरिकेट्स व्यवस्था रहेगी. पुरुषों द्वारा प्रसाद चढ़ाने की व्यवस्था बसंत सागर पर महामृत्युंजय मूर्ति वाले मार्ग पर व पट्ठे पर महिलाओं के लिए व्यवस्था रहेगी. पॉलिथीन में प्रसाद लाने पर प्रतिबंध रहेगा. सुरक्षा की दृष्टि से अलग-अलग स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे लगे रहेंगे. दो कन्ट्रोल रूम की भी व्यवस्था रहेगी.

Tags: Jodhpur News, Rajasthan news, Religious Places



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here